shabd-logo
भूषण भजनावली

बाबू जी (स्व० फुलेना सिंह) का कीर्तन भजन के छाप हमरा बालक-मन पर खूब पड़ल। लड़िकाइएँ से कविता, गीत-गवनई आ कथा-कहानी में मन रमे लागल। विद्यालय में सांस्कृतिक कार्यक्रम होखे त, खुलके भाग लीं। विद्यार्थिये जीवन से कुछ-कुछ लिखके दोस्तन के सुनाई । आगे चलके

अब पढ़ीं
मुफ्त

भूषण हनुमत-गाथा

"भूषण हनुमत गाथा" हिन्दी साहित्य के एगो महाकाव्य कथा ह जवना में हिन्दू पौराणिक कथा के पूज्य हस्ती हनुमान जी के वीरकर्म के बखान बा। एह काव्य रचना में हनुमान जी के ताकत, भक्ति, आ अटूट निष्ठा के जश्न मनावल गइल बा, खास कर के महाकाव्य रामायण में उनुकर अहम

अब पढ़ीं
मुफ्त


देहाती दुनिया

रामसहर बहुत बड़ गाँव ह। बस्ती के चारो ओर आम के घना बगइचा बा। दूर से गाँव ना लउकेला। हँ, बाबू रामतहल सिंह के घर के सामने ऊँच मंदिर के कलसा दूर से देखल जा सकेला। उहे बाबू साहेब के पिता सरबजीत सिंह के बनावल पत्थर पंचमंदिर। गाँव के लोग एकरा के ‘पंचमंडिल’

अब पढ़ीं
मुफ्त

फिरंगिया

एह कविता में बाहरी ताकतन के शोषण आ दुख के विलाप करत भारत के दुर्दशा के अभिव्यक्ति कइल गइल बा. एह में गरीबी, संसाधन के दोहन, गरिमा के नुकसान, आ जीवन के बिबिध पहलु सभ पर बिदेसी परभाव के परभाव नियर मुद्दा सभ के संबोधित कइल गइल बा। एहमें आर्थिक आ नैतिक द

अब पढ़ीं
मुफ्त




सुग्गी

कथाकार आशुतोष मिसिर के जेकरे हाथे भोजपुरी गद्य के सुभाव बचल बा।

अब पढ़ीं
मुफ्त



एगो किताब पढ़ल जाला

अन्य भाषा के बारे में बतावल गइल बा